सोहना क्षेत्र में गायों को टीके लगाते चिकित्सक।

सोहना क्षेत्र में पशुओं को एक सप्ताह में लग जाएंगी 7 हजार डोज: डा. सुरेंद्र यादव

एनसीआर गुरुग्राम

-पशुओं को लंपी बीमारी से बचाने में जुटा है पशु पालन विभाग
-दूसरे जिलों से पशुओं को लाने पर भी लगाया गया है प्रतिबंध


गुरुग्राम। पशुओं में फैली बीमारी लंपी को लेकर पशु पालन विभाग लगातार सक्रियता से काम कर रहा है। यह दावा करते हुए पशु पालन एवं डेयरिंग विभाग के उपमंडल अधिकारी डा. सुरेंद्र यादव ने बताया कि अकेले सोहना क्षेत्र में पशुओं को अगले एक सप्ताह में 7000 डोज लगा दी जाएंगी, ताकि पशुओं को इस बीमारी से बचाया जा सकते। उन्होंने बताया कि चार टीमें गठित की गई हैं, जोकि क्षेत्र में गायों को इंजेक्शन लगा रही हैं।


डा. सुरेंद्र यादव ने कहा कि जो भी पशु थोड़े से भी उन्हें प्रभावित नजर आ रहे हैं, उन्हें प्राथमिकता से टीके लगाए जा रहे हैं। लंपी स्किन डिजीज एक वायरल बीमारी है, जिससे संक्रमित मवेशियों में बुखार, आंखों और नाक से बहाव, मुंह से लार आना, पूरे शरीर में गांठ, दूध उत्पादन कम होना और खाने में कठिनाई इसके मुख्य लक्षण दिखने लगते हैं। प्रशासन ने जिला गुरुग्राम के अधिकार क्षेत्र में जानवरों के अंतर-राज्य कार्यक्रमों पर भी प्रतिबंध लगा दिया है, जिनमें गुरुग्राम में पशु मेलों और जानवरों के प्रदर्शन के आयोजन शामिल है।


डा. यादव ने बताया कि आदेशों में आगे कहा गया है कि पुलिस अंतरराज्यीय और अंतर-जिला सीमाओं के साथ-साथ जिले के भीतर पुलिस चौकियों पर पर्याप्त बल की तैनाती करके गुरुग्राम में मवेशियों की आवाजाही की जांच करेगी। जिले के भीतर/बाहर पशुओं को ले जाने वाले सभी ट्रकों/ट्रैक्टर ट्रॉली/अन्य वाहनों की आवाजाही तत्काल प्रभाव से बंद कर दी जाएगी। आदेश का उल्लंघन करना भारतीय दंड संहिता की धारा 188 के तहत दंडनीय अपराध है।


यह भी पढ़े – विटामिन डी के सेवन से कम होता है इस जानलेवा बीमारी का खतरा

हमारे इंस्टाग्राम पेज से जुड़े – क्लिक करे।

शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published.